[Best] republic day speech in Hindi, 26 January speech in Hindi 2020


[Best] republic day speech in hindi, 26 january speech in hindi 2020
26 January

गणतंत्र दिवस भाषण

आदरणीय प्रिंसिपल सभी शिक्षकगण, सहपाठियों और अभिभावकों को मेरा नमस्कार। मैं आप सभी का हार्दिक अभिनंदन करता हूं मेरा नाम विकास (अपना नाम बोले)...... है मैं कक्षा (जिस भी क्लास).... मैं अध्ययन करता हूं! आज हम सभी यहां पर गणतंत्र दिवस को मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं! हर साल हम 26 जनवरी को अपना गणतंत्र दिवस मनाते हैं तो इस पावन अवसर पर, मैं 26 जनवरी पर भाषण करने जा रहा हूँ!

बात 15 अगस्त 1947 की है। जब भारत आजाद हुआ तोह यह भारत के लिए एक नया सवेरा था एक नया देहान था। और सुबह- सुबह जब लोग उठते है तो लोगों में एक ऊर्जा होती है और उस ऊर्जा के साथ एक आलस्य भी होता है। तो उस आलस्य को दूर करने के लिए हमारे संविधान निर्माताओ ने एक संविधान बनाया।

 ताकि हमारी ऊर्जा बरक़रार रहे। और उस ऊर्जा से मिलने बाली ख़ुशी उम्र भर बरक़रार रहे। 
26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ यह हमारा पहला गणतंत्र दिवस था। और आज हम 71वाँ गणतंत्र दिवस माना रहे है!  

                                                           
गणतंत्र का अर्थ है देश में सभी देशवासियों के लिए समान व्यवस्था और कानून स्थापित करना। हमारे देश में सभी धर्मों को, संप्रदायों को समान अधिकार और स्थान दिया गया है। 

या गणतंत्र का मतलव जनता द्वारा चुना  हुआ शासन जिसका राष्ट्रीय अध्यक्ष(National President) जनता के द्वारा चुना गया हो। 

जब भारत आजाद हुआ तो विश्व के सभी देशों ने यह कहना शुरू किया वह देश जो प्राचीन काल में  राज्यतंत्र में और मध्यकाल में मुगलों, सुल्तानों द्वारा और आधुनिक काल में ब्रिटिश के द्वारा शासित हुआ हो वह देश लोकतंत्र के काबिल नहीं है भारत में लोकतंत्र विफल हो जाएगा। 

यह तो वही कहावत है जब आप घर बनाने जाएं और जो लोग झोपड़ियों में रहते हैं। और आपको इंजीनियरिंग का ज्ञान दें!  खैर भारत आजाद हुआ।

 आजादी के बाद गरीबी, भुखमरी, कृषि और उद्योग यह तमाम सभी चीजों का अस्तित्व थालेकिन यह तमाम बाधाओं को दूर रखते हुए!

 आज भारत मंगल ग्रह पर पहुंचने वाले राष्ट्रीयों में से एक हो गया! एशिया में भारत दूसरी महाशक्ति और विश्व में अग्रणी 5 आर्थिक शक्तियों में से एक हो गया। 
बच्चों कोई भी राष्ट्र स्वयं में महान नहीं होता महान बनाते हैं उसके देश के नागरिक, महान बनाते हैं उसके नागरिकों के कर्तव्य और निष्ठा और उनकी सत्यनिष्ठा और उनकी नैतिकता और उनकी कुशलता, महानता आसमान से नहीं उपजती महानता मेहनत से आती है।

 विद्यार्थियों आज आप उस दौर में जी रहे हैं जो सबसे विशिष्ट दौर हैं! जहां पर  संसाधनों की उपलब्धता और अवसरों की पर्याप्तता है आप कुछ कर सकते हैं। इसके अलावा आप एक नया क्षेत्र बना सकते हैं आप अपने विकास की एक गाथा लिख सकते हैं। 

विद्यार्थियों आज भी बहुत सारे देश ऐसे हैं जिस पर सैनिक शासन है भारत लोकतंत्र को जीवित किए हुए और लोकतांत्रिक मूल्यों को आगे बढ़ा रहा है!
भारत में बहुत सारे बच्चे अभी भी शिक्षा से वंचित हैं यह सोचने की बात है आप कितने खुशनसीब हैं जिन्हें शिक्षा मिल रही है जिस उम्र में आप सीलेट पोछते हैं उस उम्र में बहुत सारे बच्चे पोछते हैं। ताकि दो वक्त की रोटी खा सकें।
जब आप सीलेट पर लिखते हैं उस समय पोछते पहुंचते हैं यहां कितनी विडंबना की बात है दुख तो तब होता है जब आप गैर अनुशासित तरीके से बिना उद्देश्य जीवन के बिता रहे हैं क्या आपका अपने परिवार, समाज, राष्ट्र एवं विद्यालय के प्रति कोई उत्तर दायित्व नहीं है!

यह सोचने की बात है यदि आप अभी तक नहीं सोचे हैं तो आज सोचिय आज गणतंत्र दिवस आपको मौका देता। अगर आप अभी भी नहीं सोचते है। तो आप  पत्थर होते गए हैं तो आप  पत्थर होते हैं(2 time) 

विवेकानंद ने कहा है वह व्यक्ति जिसका हृदय दूसरों के प्रति नहीं धड़कता है वह व्यक्ति जो शिक्षित है जो दूसरों के लिए नहीं सोचता है। तो  वह पत्थर हो गया है!
और मैं कहना चाहूंगा कि पत्थरों पर कभी फूल ऊगा करते हैं। पत्थरों पर जमती है तो सिर्फ काई -2 time,

फिर भी तुम पत्थर बनना चाहते हो तो तुम सालिकराम  पत्थर बनो। अपने आप को इतना रगड़ दो। कि लोग तुम्हें अपने घरों में ले जाएं तुम्हें गंगाजल से नहलाय तुम्हारे ऊपर फूल चढ़ाएं। और तुम्हें भगवान की तरह पूजे लेकिन सालिकराम  पत्थर बनने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। 


आज 4G का जमाना है 4G के जमाने मैं आपको एक का मंत्र देना चाहूंगा। आप सपने देखना शुरू कीजिए।....
Dream
Dedication 
Determination
Discipline

अपने सपने को पाने के लिए आपको यह 4D बनना बहुत जरूरी है सपने हर किसी को नहीं आते हैं। क्योंकि सपने देखने के लिए आंखें होनी चाहिए उन्हें पूरा करने के लिए दिल में आग होनी चाहिए। जो कभी ना बुझे एसी आग जलनी चाहिए! क्या वह आग मर गई है अगर मर गई तो इसको जलाऔ।

 क्योंकि आपसे आपके परिवार, समाज, और आपके राष्ट्र और इस विश्व को बहुत सारी उम्मीदें हैं भारत आज विश्व में सबसे युवा राष्ट्रीय है!

क्योंकि 18 से 35 वर्ष के उम्र के भारत में बहुत सारे लोग हैं और 12 से लेकर 18 तक बहुत सारे लोग हैं अर्थात, भारत बहुत दिनों तक युवा रहने वाला है।

चीन ने भारत को युवा देखते हुए अपनी एक संतान की नीति को त्याग दिया है मतलब की भारत से सभी देश खोंफ ज्यादा है कि भारत बहुत तेज प्रगति प्रगति करने वाला है!

 युवा एक ऐसा शब्द है। जिसको आप अगर उल्टा करते हैं तो वायु बनता है और वायु में प्रचंड शक्ति होती है कि वह निर्माण कर सकें। और वह ध्वस्त कर सके। वायु की उर्जा को एक दिशा में लगाएंगे तो से बिजली पैदा होगी। वह बिजली जो अंधेरों को दूर करेगी। वह बिजली जो परिवार के अंधेरों को और राष्ट्र के अंधेरों को और विश्व के अंधेरे को दूर कर सकती है। तो बच्चों अपने भीतर बिजली जलाइए। 

मैं कहना चाहूंगा की सबसे खतरनाक होता है मुर्दा शांति से भर जाना! मुर्दों की तरह शांत हो जाना! तड़प का ना होना दिल में बस यूं ही जिए जाना! सबसे खतरनाक होता शांति से भर जाना।(2 time)॥ सबसे खतरनाक होता है हमारे सपनों का मर जाना।(2 time), आप  सपने देखिए।....... 

क्योंकि इस राष्ट्र को आपसे बहुत सारी उम्मीदें हैं आज 26 जनवरी एक ऐसा मौका देता है आपको जब आप अपना विशेषण करें। कि आपने पिछले सालों में क्या किया।

आज से लगभग 40 दिन बाद 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा होनी है अगर आप आज भी यही संकल्प ले ले कि हम पढ़ेंगे और अच्छे से पड़ेंगे तो निश्चित रूप से अपने आप न्याय करेंगे क्योंकि एक शिक्षित कुशल नागरिक ही एक सशक्त राष्ट्र और संपन्न राष्ट्र का निर्माण कर सकता है। 
बच्चों रेंगने से अच्छा है कि चला जाए चलने से अच्छा है कि दौड़ा जाए और दौड़ने से भी उड़ा जाए। 

इन्हीं विचारों के साथ आप सभी को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं बधाई और फिर से मैं उम्मीद करता हूं कि आप जाएंगे घर पर आत्म विश्लेषण करेंगे और और भारत के लोकतंत्र को मजबूत बनाने में अपना योगदान देंगे।  धन्यवाद




गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ही क्यो मनाया जाता है...   क्लिक me 



"SAVE WATER!
SAVE LIFE"